OPPO नहीं बल्कि इस कंपनी की ब्रांडिंग होगी टीम इंडिया की जर्सी में

2019 का वर्ल्ड कप भारतीय क्रिकेट टीम को नहीं मिला। उसके बाद भारतीय क्रिकेट टीम में बहुत सारे बदलाव होते रहे हैं, जिसने कि महेंद्र सिंह धोनी को वेस्टइंडीज के दौरे में शामिल नहीं किया गया। उसके बाद भारतीय क्रिकेट टीम के मौजूदा कोच को भी बदल देने का फैसला लिया गया। क्योंकि अगले वर्ल्ड कप के मैचों के लिए या अगले आने वाले मैचों के लिए नए खिलाड़ियों को मौका मिले। इसीलिए बीसीसीआई ने कई तरह के बदलाव किए हैं।

कब से कब तक ब्रांडिंग होगी BYJU’s लर्निंग ऐप की?

कब से कब तक ब्रांडिंग होगी BYJU's लर्निंग ऐप की?
भारतीय क्रिकेट टीम: फोटो
2019 का वर्ल्ड कप एक चाइनीस मोबाइल कंपनी ओप्पो की ब्रांडिंग को भारतीय क्रिकेट टीम के जर्सी में शामिल करके खेला गया था। लेकिन अब इसमें बदलाव कर दिया गया है। 5 सितंबर 2019 से लेकर 31 मार्च 2022 तक एक लर्निंग और ट्यूटोरियल प्रदान करने वाली एप की ब्रांडिंग होगी जिसका नाम BYJU’s है। और यह कंपनी ऑनलाइन लर्निंग एप है।

OPPO ने BCCI को कितने रुपये दिए थे?

OPPO ने BCCI को कितने रुपये दिए थे?
BYJU’s की ब्रांडिंग: फोटो
भारतीय क्रिकेट टीम नए ब्रांडिंग वाली जर्सी को वेस्टइंडीज के खिलाफ 15 सितंबर को आने वाली मैच में पहली बार पहनेगी। 2017 में एक चाइनीस मोबाइल कंपनी विवो ने लगभग 768 करोड़ रुपए बीसीसीआई को दे रही थी।

सिर्फ 27 किलोग्राम का है यह मशीन, ISRO को भेजेगा चाँद से फ़ोटो

लेकिन वहीं दूसरी ओर चाइनीस कंपनी ओप्पो ने 1079 करोड़ रुपए देकर चाइनीस कंपनी वीवो को पीछे कर दिया। जिसके बाद 2017 में ओप्पो की कंपनी को भारतीय क्रिकेट टीम की जर्सी ने अपनी ब्रांडिंग के लिए सारे अधिकार मिल गए।

BYJU’s की ब्रांडिंग के लिए BCCI ने कब ऐलान किया?

BYJU's की ब्रांडिंग के लिए BCCI ने कब ऐलान किया?
BCCI: फोटो
परंतु गुरुवार 25 जुलाई को बीसीसीआई ने यह ऐलान किया कि एक ऑनलाइन लर्निंग एप जिसका नाम BYJU’s है, उनकी ब्रांडी अब भारतीय क्रिकेट टीम की जर्सी में होने वाली है बीसीसीआई या भारतीय क्रिकेट टीम को किसी भी तरीके का नुकसान नहीं है। क्योंकि पुरानी कंपनी की तरह नई कंपनी को भी उतनी ही राशि देनी होगी।

बीसीसीआई ने यह साफ कहा है कि नई कंपनी को ब्रांडिंग के लिए पुरानी कंपनी से 10 प्रतिशत अतिरिक्त देने होंगे। बीसीसीआई का एक ऐसा धारा है जिसमें वित्तीय लेनदेन को गोपनीय रखा जाता है। इसी वजह से कुछ वित्तीय लेनदेन को सार्वजनिक नहीं किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *